एजीपी (AGP) 26 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. यूपीपीएल (UPPL) 8 सीटों पर ताल ठोंकेगी. बाकी सीटों पर बीजेपी (BJP) अपने उम्मीदवार उतारेगी.
नई दिल्ली,04 मार्च। असम विधानसभा चुनाव 2021 को लेकर बीजेपी और गठबंधन के दलों के बीच सीट बंटवारे को लेकर फॉर्मूला तय हो गया है. सूत्रों के मुताबिक, एजीपी (AGP) 26 सीटों पर चुनाव लड़ेगी. यूपीपीएल (UPPL) 8 सीटों पर ताल ठोंकेगी. बाकी सीटों (92) पर बीजेपी (BJP) अपने उम्मीदवार उतारेगी.

असम में 27 मार्च से छह अप्रैल के बीच तीन चरणों में मतदान संपन्न होगा. पहले चरण के तहत राज्य की 47 विधानसभा सीटों पर 27 मार्च को, दूसरे चरण के तहत 39 विधानसभा सीटों पर एक अप्रैल और तीसरे और अंतिम चरण के तहत 40 विधानसभा सीटों पर छह अप्रैल को मतदान संपन्न होगा.

आगामी विधानसभा चुनावों के मद्देनजर उम्मीदवारों के नामों पर मंथन कर सूची को अंतिम रूप देने के लिए गुरुवार को राजधानी स्थित भाजपा मुख्यालय में पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक हुई, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए. पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में 27 मार्च से मतदान होने हैं. गुरुवार को ही मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के घर गए. नड्डा के आवास पर असम के चुनाव पर चर्चा के लिए मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा, असम प्रभारी बैजयन्त पांडा और सह प्रभारी पवन शर्मा के साथ साथ बीजेपी पार्टी के आला नेता मौजूद रहे.

असम में भाजपा को अपनी सत्ता बचाने की चुनौती
इस बार असम में भाजपा को अपनी सत्ता बचाने की चुनौती है. वहां उसका सामना कांग्रेस और एआईयूडीएफ के गठबंधन से है. भाजपा ने पिछले विधानसभा चुनाव में 10 सालों के कांग्रेस शासन का अंत करते हुए पहली बार पूर्वोत्तर के किसी राज्य में सत्ता हासिल की थी.

पिछले चुनाव में BJP ने जीती 60 सीटें
असम विधानसभा में 126 सीटें हैं. साल 2016 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 60 सीटों पर जीत मिली थी. पिछले चुनाव में बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ) ने भाजपा और अगप के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा था और उसने 12 सीटों पर जीत दर्ज की थी. इस बार में चुनाव में बीपीएफ ने कांग्रेस और एआईयूडीएफ के साथ गठबंधन किया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here