भाजपा की नजर में लोजपा ‘वोटकटवा’

पटना, 16 अक्तूबर   :  बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर लोक जनशक्ति पार्टी ने आज दूसरे चरण के चुनाव के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने के अअंतिमसंस्कार दिन 53 उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी की  है. इस लिस्ट में 7 महिलायें हैं । 42 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट में भी 9 महिलाओं को जगह मिली है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व का विरोध और भाजपा की अगुआई में  नयी सरकार बनाने के संकल्प के साथ  चुनावी जंग में  उतरी लोजपा के मुख्य निशाने पर जदयू ही है। पार्टी ने पिछले महीने ही यह ऐलान किया था कि एलजेपी 243 में से 143 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

लोक जनशक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने दूसरे चरण में दो सीटिंग विधायकों को भी टिकट दिया है.  लोजपा का दावा है कि   इसबार के चुनाव में पार्टी एक बड़ी भूमिका में रहेगी. चिराग पासवान ने पहले ही एलान कर दिया है कि चुनाव परिणाम चाहे हो भी हो, वह पीएम मोदी के साथ हैं. उनकी नीतियों का पार्टी समर्थन करती है।

इधर भाजपा ने आज बिहार में सत्तारूढ़ राजग से नाता तोड़कर अलग चुनाव लड़ने वाली लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के विरूद्ध शुक्रवार को आक्रामक मुद्रा अपनाते हुए उसे न सिर्फ ”वोट कटवा” करार दिया बल्कि आरोप लगाया कि लोजपा नेता चुनाव प्रचार में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं का नाम लेकर निजी स्वार्थ के वश ”भ्रम” की राजनीति कर रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ”चिराग पासवान ने बिहार में अपना अलग रास्ता चुना है और वो हमसे अलग होकर चुनाव लड़ रहे हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेताओं का नाम लेकर वह भ्रम फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। यह झूठी बयानबाजी सफल नहीं होगी।

उनके इन प्रयासों की निंदा करते हुए जावड़ेकर ने स्पष्ट किया कि बिहार चुनाव में भाजपा की कोई ”बी, सी या डी” टीम नहीं है।

भाजपा नेताओं ने दावा किया कि लोजपा की ”झूठ और भ्रम” की राजनीति सफल नहीं होगी और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की दो तिहाई बहुमत से जीत होगी।

उन्होंने कहा, ”हमारी एक ही मजबूत टीम है और वह है..भाजपा, जद(यू), हिन्दुस्तान अवाम मोर्चा (हम) और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी)। चार दलों का हमारा गठबंधन राजग मजबूती से चुनाव लड़ रहा है। तीन चौथाई बहुमत से विजयी होगी और हम कांग्रेस, राजद और माले के अपवित्र गठबंधन को हराएंगे।

उन्होंने कहा, ”चिराग की पार्टी एक वोट कटवा पार्टी रह जाएगी। बहुत ज्यादा असर नहीं नहीं डाल सकेगी चुनाव पर। हम साफ करना चाहते हैं कि दूर-दूर तक हमारा कोई रिश्ता नहीं है। भ्रम की राजनीति हमें पसंद नहीं है। ”वोट कटवा का प्रयोग सामान्यत: उस राजनीतिक दल या उम्मीदवार के लिए किया जाता है जो चुनाव तो नहीं जीत सकता लेकिन वोट काटकर किसी दूसरे दल के प्रत्याशी का हरा सकता है।”

देखें लोजपा की दूसरी लिस्ट:

पहली लिस्ट भी देखें:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here