एयरपोर्ट पर रामविलास पासवान के अंतिम दर्शन के लिए पटना एयरपोर्ट पर समर्थकों की भारी भीड़ उमड़ गई. जब रामविलास पासवान के दामाद अनिल साधु और बेटी एयरपोर्ट के अंदर घुसने की कोशिश कर रहे थे तो उन्हें बाहर ही रोक दिया गया. 

बिहार के कद्दावर नेता और केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का लंबी बीमारी के बाद बीती शाम निधन हो गया. 74 साल के रामविलास पासवान कई दिनों से अस्पताल में भर्ती थे.

रामविलास पासवान के पार्थिव शरीर को शाम पांच बजे दिल्ली से भारतीय वायु सेना के विशेष विमान से पटना लाया गया. रामविलास पासवान के परिजन, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, गृह राज्य मंत्री नित्यानन्द राय,स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे उसी विमान से आये। एयर पोर्ट पर राष्ट्रीय तिरंगा ध्वज से लिपटे पार्थिव शरीर के प्रति राष्ट्रीय सम्मान एवं श्रद्धांजलि दी गयी।केंद्रीय मंत्रियों, सीएम नीतीश कुमार, डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी, विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने पुष्पांजलि दी।

एयरपोर्ट पर रामविलास पासवान के अंतिम दर्शन के लिए पटना एयरपोर्ट पर समर्थकों की भारी भीड़ उमड़ गई. इतना ही नहीं जब रामविलास पासवान के दामाद अनिल साधु और बेटी उषा एयरपोर्ट के अंदर घुसने की कोशिश कर रहे थे तो उन्हें बाहर ही रोक दिया गया. 

इस बात से अनिल साधु नाराज हो गए और पटना एयरपोर्ट के स्टेट हैंगर गेट पर हंगामा शुरू कर दिया. इतना ही नहीं उन्होंने वहां से गुजर रहे उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के काफिले को भी रोक दिया गया.  

पटना हवाई अड्डे से सीधे पार्थिव शरीर विधानसभा ले जाया गया, इसके बाद पार्टी मुख्यालय में समर्थकों के अंतिम दर्शन के लिए लाया गया. राम विलास पासवान के पटना में होने वाले अंतिम संस्कार में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद पूरी कैबिनेट की तरफ से मौजूद रहेंगे. जहां शनिवार को दोपहर 12.30 बजे जनार्दन घाट, दीघा में गंगा किनारे उनका अंतिम संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया जायेगा.

इससे पहले दिल्ली में 12 जनपथ पर रामविलास पासवान के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था. जहां पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को रामविलास पासवान को अंतिम श्रद्धांजलि दी. पीएम मोदी ने इस दौरान चिराग पासवान और परिवार के अन्य सदस्यों से मुलाकात की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here