नई दिल्ली,08 अप्रैल.सुप्रीम कोर्ट ने आज केंद्र सरकार से कहा कि कोरोना वायरस बीमारी की जांच प्राइवेट लैब में भी मुफ्त होनी चाहिए .कोरोना वायरस (COVID-19) पर सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कि कहा कि वह इस संबंध में एक उचित आदेश पारित करेगा। कोर्ट नेे कहा कि डॉक्टर कोरोना के योद्धा हैं। उनकी भी सुरक्षा की जानी चाहिए है। सुनवाई के दौरान केंद्र की ओर से मौजूद सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बताया कि सरकार इस मोर्चे पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रही है। सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस अशोक भूषण और एस रवींद्र भट की पीठ को केंद्र की ओर से बताया गया  कि पहले प्रतिदिन 15,000 टेस्ट 118 द्वारा द्वारा किए जाते थे और बाद में क्षमता बढ़ाने के लिए 47 प्राइवेट लैब को कोरोना के जांच के लिए अनुमति दी गई। कोर्ट को स्वास्थ्य मंत्रालय कीओर से जानकारी दी गयी कि

  • भारत में अब तक कोरोना वायरस (COVID-19) से 149 लोगों की मौत हुई है.
  • भारत में कोरोना वायरस (COVID-19) के 5,194 मामले सामने आए हैं.
  • भारत में कोरोना वायरस (COVID-19) से 401 मरीज ठीक हुए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here