जोधपुर में भाजपा की रैली जोधपुर, 03 जनवरी । केंद्रीय गृहमंत्री एवं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने आज यहां नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोधियों को दो टूक कहा है – मोदी सरकार एक इंच भी नहीं हटेगी पीछे। इसकोलेकर एक बार फिर उन्होंने मोदी सरकार की प्रतिबद्धता दोहरायी । उन्होंने कहा कि देश की सभी विपक्षी पार्टियां इसके खिलाफ भले ही एक हो जाएं, लेकिन सरकार सीएए पर एक इंच भी पीछे नहीं हटेगी।
भाजपा अध्यक्ष श्री शाह शुक्रवार को यहां आदर्श विद्यामंदिर के मैदान में सीएए को लेकर पार्टी द्वारा आयोजित जागरुकता रैली को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने तमाम विपक्षी पार्टियों के साथ मिलकर सीएए के खिलाफ दुष्प्रचार का अभियान शुरू किया है। कुछ युवा गुमराह होकर सीएए के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं। तब हमने भी तय किया कि हम लोग जनता के बीच जाकर सीएए पर फैले भ्रम को दूर करेंगे।
उन्होंने कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को चुनौती दी और कहा कि राहुल बाबा यदि आपने नागरिकता संशोधन अधिनियम पढ़ा है तो कहीं पर चर्चा के लिए आ जाओ। मैं तैयार हूं। यदि नहीं पढ़ा है तो मैं इटैलियन में अनुवाद करके भेज देता हूं, उसको पढ़ लीजिए। सीएए नागरिकता देने का कानून है, नागरिकता छीनने का नहीं। धर्म के आधार पर देश का बांटवारा कांग्रेस ने किया था। पूर्वी और पश्चिमी क्षेत्र में रहने वाले हिंदू, जैन, बौद्ध, ईसाई और सिखों को विश्वास था कि हम यहां सुरक्षित रहेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। पाकिस्तान में अल्पसंख्यक 23 से घटकर तीन प्रतिशत रह गए। बांग्लादेश में 30 से घटकर सात प्रतिशत रह गए हैं। आखिर कहां गए ये लोग। या तो इन्हें मार दिया गया या फिर इनका धर्मांतरण कर दिया गया। उन्होंने कहा कि नेहरू-लियाकत समझौते के तहत भारत ने अल्पसंख्यकों के हितों की रक्षा की है, उनकी आबादी फल-फूल रही है। पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान में रहने वाले अल्पसंख्यक लोग करोड़पति थे, सौ बीघा जमीन पर खेती करते थे। आज उनके पास रहने के लिए घर नहीं है। वे यहां प्रताड़ित होकर आये हैं। आप कहते हैं, उन्हें नागरिता मत दीजिए। उन्होंने कहा कि 70 साल से प्रताड़ित हो रहे शरणार्थियों के मानवाधिकार उल्लंघन की चिंता किसी मानवाधिकार चैंपियन ने नहीं की, यह दुर्भाग्यपूर्ण है।
केन्द्रीय गृह मंत्री शाह ने कहा कि जब देश का बंटवारा हुआ तो महात्मा गांधी, पंडित नेहरू और सरदार पटेल समेत कांग्रेस के कई नेताओं ने उनसे वादा किया था, लेकिन वोटबैंक के लालच में कांग्रेस ने अपने नेताओं का वादा पूरा नहीं किया। इस वादे को अब पीएम नरेंद्र मोदी पूरा कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि टुकड़े-टुकड़े गैंग एक बार फिर देश में वोटबैंक की राजनीति का सूत्रपात करने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि रैली में बड़ी संख्या में शरणार्थी यहां आए हैं। इनकी प्रताड़ना से पूरा देश वाकिफ है। हम आपका हृदय से स्वागत करते हैं। इनका भी देश पर इतना ही अधिकार है, जितना सभी देशवासियों का। उन्होंने जतना से अपील की कि देश में वोटबैंक की राजनीति बहुत हो चुकी है, अब मोदीजी के विकास के रास्ते पर आगे चलें।
भाजपा अध्यक्ष शाह ने कहा कि देशभर में 250 से ज्यादा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर हम जनता को सीएए के बारे में जागरूक करेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस वोटबैंक की राजनीति के तहत देशहित के मुद्दों का भी विरोध करती है। कांग्रेस राममंदिर पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का भी विरोध कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी बनाया, तीन तलाक का विधेयक पास कराया, श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर का रास्ता प्रशस्त हुआ और अब शरणार्थियों के लिए सरकार सीएए लेकर आयी है। यह सभी काम बिना किसी भेदभाव के देशहित में किए हैं। उन्होंने उपस्थित जनसमूह को मोबाइल पर सीसीए के समर्थन में पीएम को साथ देने का संदेश भेजने के लिए प्रेरित किया।

कोटा में बच्चों की मौत पर गहलोत पर निशाना
कोटा के सरकारी अस्पताल में दिसम्बर महीने में हुई करीब 100 बच्चों की मौत को लेकर गृहमंत्री शाह ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि गहलोत साहब, हमने कुछ नया नहीं किया है, आपके घोषणा पत्र का एक पैरा उठाकर उसका अमल कर दिया और आप विरोध कर रहे हो। यह सब बाद में करिएगा, पहले कोटा में जिन बच्चों की मौत हुई है, उनकी एक बार चिंता कर लीजिए। आपको माताओं की हाय लग रही है। दिल्ली के दरबार के आगे इतना मत झुकिए। जोधपुर आपका जिला है, यहां रहने वाले हजारों शरणार्थी रैली में बैठे हैं, जो आपसे पूछना चाहते हैं कि गहलोतजी हमारा विरोध क्यों कर रहे हो।

सावरकर के मुद्दे पर कांग्रेस को लताड़ा
गृहमंत्री शाह ने कांग्रेस सेवादल द्वारा बांटी गयी पुस्तक में स्वातंत्र्य वीर सावारकर पर की गई विवादित टिप्पणियों पर भी कांग्रेस को जमकर लताड़ा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस वोटबैंक की राजनीति के चलते महान क्रांतिकारी वीर सावरकर का अपमान कर रही है। सावरकर पर भद्दी टिप्पणियां करने वाले कांग्रेसियों को शर्म करनी चाहिए।
उल्लेखनीय है कि भोपाल में कांग्रेस सेवा दल के कार्यकर्ताओं के गुरुवार से शुरू हुए 10 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर में प्रशिक्षणार्थियों को ‘वीर सावरकर कितने वीर’ पुस्तक बांटी गयी है। इसमें सावरकर पर अमर्यादित टिप्पणियां की गयी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here